मंगलवार, 12 जनवरी 2010

बिरिया सी झोर लइ - बुन्देली कविता

शिवानन्द मिश्र 'बुंदेला' बुन्देलखण्ड के प्रसिद्द कवि रहे हैंउन्होंने बुन्देली भाषा को विशेष पहचान देने के लिए सदैव प्रयास किये
इनकी बुन्देली कविता ‘बिरिया सी झोर लइ’ ने बुन्देला जी को तथा बुन्देली भाषा को नई पहचान दी। यहाँ आपकी यही कविता प्रस्तुत है-

तुरकन ने तिली सी अकोर लइ, गोरन ने गगरी सी बोर लइ।
अब अपने भारत के भैंयन ने, परजा कों बिरिया सी झोर लइ।
नेतन की बातन में घातें हैं।
इनके हैं दिन हमाईं रातें हैं।
मारपीट गारिन को समझत जे,
सब दुधार गैया की लातें हैं।
राजनीति कों तनक मरोर लइ, ढेर भरी सम्पदा अरोर लइ।
अब अपने भारत के भैंयन ने परजा कों बिरिया सी झोर लइ।
आउते जो गाँव उर गमैंयन में।
बैठते टिराय चार भैंयन में।
सांचो सो रामराज हुइ जातो,
गाउते मल्हार उन मड़ैंअन में।
कील कील जितै की तंगोर लइ, बूंद-बूंद रकत की निचोर लइ।
अब अपने भारत के भैंयन ने परजा कों बिरिया सी झोर लइ।
दओ उसेय पुलिस की पतेली ने।
लओ उधेर मुंसपी तसीली ने।
लील्हें सब लेत हैं किसानइं कों,
चींथ खाओ जजी ने वकीली ने।
मका केसी अड़िया चिथोर लइ, सहद की छतनियां सी टोर लइ।
अब अपने भारत के भैंयन ने परजा कों बिरिया सी झोर लइ।
दूध घी निकारें हम देहाती।
कतर कतर करब पक गई छाती।
मोंड़न के पेट काट बेंचत हैं,
खाय खाय बूस गये शहराती।
मिली तो महेरिअइ भसोर लइ, अमिअंन की गुठलिअइ चचोर लइ।
अब अपने भारत के भैंयन ने परजा कों बिरिया सी झोर लइ।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बुन्देली की मिठास इस गीत मे झलकती है

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार शरद जी,
    बुन्देली में मिठास ही मिठास है.
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुमारेन्द्र जी बुन्देली आपको आती है क्या ? पढ़ कर मिठास मिली ,
    मैंने आपको अपनी मेल भेजी थी मिली या नही ?

    उत्तर देंहटाएं